शनिवार, 20 फ़रवरी 2021

उनकी काबिलियत के दम पर शामिल किया गया टीम में

आईपीएल ऑक्शन में जैसे ही मुंबई इंडियंस की टीम ने अर्जुन तेंदुलकर को ख़रीदा.उसके बाद लोगों के मन में तरह-तरह के सवाल चल रहे थे.जो प्रश्न लोगों के मन में उठ रहे थें.वो कुछ इस प्रकार के थे.क्या अर्जुन तेंदुलकर को उनके पिता सचिन तेंदुलकर की वजह से मुंबई इंडियंस ने ख़रीदा.?ये सब प्रश्न इसलिए भी उठ रहे हैं क्योकि खुद सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस के लिए खेल चुके हैं और अभी भी वो टीम के साथ है लेकिन एक अलग जिम्मेदारी में. 


एमआई कोच का खुलासा :-अर्जुन तेंदुलकर के खिलाफ उड़ रही अफवाहों का वैसे तो कोई लेना-देना नहीं है.इस बात का खुलासा पूर्व श्रीलंकाई दिग्गज और वर्तमान एमआई कोच महेला जयवर्धने ने किया.उन्होंने कहा "अर्जुन तेंदुलकर को खरीदने का फैसला उनकी जबरदस्त प्रतिभा को देखकर किया गया है.सचिन का बेटा होने के कारण अर्जुन पर अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव होगा."उन्होंने आगे कहा की सचिन तेंदुलकर एक जबरदस्त बल्लेबाज थे जबकि इसके विपरीत अर्जुन एक गेंदबाज हैं.अभी तक तो अर्जुन तेंदुलकर को एक हरफनमौला खिलाड़ी के रूप में देखा जाता था लेकिन कोच की बातें कुछ और ही बयां कर रही हैं. 


 दबाव में होंगे छोटे तेंदुलकर :-आप जितने बड़े बाप के बेटे होते हैं.आप पर उतना अधिक दबाव होता है.देखना रोचक होगा की इस दबाव को अर्जुन कैसे झेलते हैं.सचिन तेंदुलकर का बेटा होने के नाते उन पर दबाव तो हमेशा बना रहेगा.ये एक ऐसा वास्तविक सत्य है जिसे छोटे तेंदुलकर को हमेशा साथ लेकर जीना है.अर्जुन तेंदुलकर ने अपनी फ्रेंचाइजी का शुक्रिया अदा किया है.एमआई के साथ खेलने के लिए अर्जुन काफी उत्साहित है.


 पॉलीक्रिक के अनुसार "अर्जुन तेंदुलकर को अपने दिमाग से ये निकाल देना होगा की वो सचिन के बेटे हैं.उन्हें अपना सारा ध्यान उम्दा प्रदर्शन करने पर लगाना होगा.जिससे उन्हें सब लोग उनके नाम से जाने नाकि सचिन तेंदुलकर के नाम से."

लेबल:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

सदस्यता लें टिप्पणियाँ भेजें [Atom]

<< मुख्यपृष्ठ